दो जुमले जिनसे बचकर रहना है

April 12, 2021 | आचार्य प्रशांत

प्रश्नकर्ता: नमस्कार आचार्य जी, थोड़े समय के लिए हम लोग पूरी तत्परता के साथ और ईमानदारी के साथ कुछ कर रहे होते हैं, और साथ-साथ ये भी होता है कि ज्ञान भी कम होता है और क्षमता भी कम होती है, तो प्रक्रिया धीमी होती है और फिर ऐसा भी हो जाता है कि अभी कम-से-कम तत्परता तो थी, फिर वो भी थोड़ा भटक जाता है आदमी, या ईमानदारी कहीं इधर-उधर हो जाती है तो ये एकदम ही शून्य हो जाता है। तो इसमें फिर निराशा भी आ जाती है कि अब दोबारा शून्य से शुरू करना पड़ेगा। और अभी आपके आने से पहले वही आलस वाला वीडियो चलाया था, पर ऐसे सोचने में भी आलस होता है, जैसे सोचने का भी मन ना कर रहा हो।

आचार्य प्रशांत: हाँ तो सोचना भी एक श्रमसाध्य काम है। हाथों की कसरत की तरह दिमाग की कसरत भी कोई हल्की चीज नहीं; लगता है, करना पड़ेगा। इस करने का तो देखो कोई विकल्प है ही नहीं, हम यहाँ कितनी भी बात कर लें।

ये आपने कर लिया कि आप यहाँ तक आए, ये आपने कर लिया कि आपने चर्चा में भाग लिया, ये आपने कर लिया कि आपने बात पर विचार किया। लेकिन इसके बाद भी ये आपको ही करना है कि इसको ज़िंदगी में उतार लिया। करने का तो साहब कोई विकल्प होता ही नहीं है, एकदम नहीं होता।

प्र: इसमें जैसे बुरा भी तो लगता रहता है बीच-बीच में।

आचार्य: लगता है तो लगे, क्या करें? कलेजा बड़ा होना चाहिए, बुरा लगता रहता है बीच में।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव