जब महिला करे पुरुष का शोषण || (2021)

August 14, 2021 | आचार्य प्रशांत

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, कल एक रिकोर्डिंग देखी जिसमें एक महिला एक शांत दिखने वाले और एक गरीब आदमी को सरेआम पीट रही थी। कोई बीच-बचाव करने नहीं आया और शायद पुलिस भी उस आदमी को ही फँसा रही है। मेरे पुराने घाव उघड़ आए क्योंकि मैं भी झूठे दहेज के मामलों में अपनी पूर्व पत्नी से बहुत मानसिक, आर्थिक और कानूनी अत्याचार सह चुका हूँ। सर, आप अपनी शिक्षाओं में अक्सर महिलाओं का ही पक्ष लेते हैं और महिलाओं के सशक्तिकरण की कोशिश करते हैं और पुरुषों के शोषण के मामलों पर आप कुछ नहीं बोलते।

आचार्य प्रशांत: मैं महिला सशक्तिकरण की बात करता हूँ क्योंकि इस देश में अधिकांश महिलाएँ अभी भी ऐसी हैं जिन्हें सहारे की, समर्थन की बहुत ज़रूरत है। लेकिन मैं तुम्हारी बात से सहमत हूँ कि अब आधुनिक, पढ़ी-लिखी महिलाओं का एक वर्ग उभर कर आया है पिछले दस-बीस सालों में जहाँ रोल-रिवर्सल (भूमिका बदलाव) हो गया है। कि जहाँ पर पहले ये होता था कि पुरुष शोषक होता था और स्त्री पर शोषण होता था वहाँ पर अब स्त्री शोषक के किरदार में आ गई है। पर ऐसा कम है, ज़्यादा स्थिति अभी यही है कि महिलाएँ उत्पीड़ित हैं और उनको समर्थन मिलना चाहिए। लेकिन तुमने जो बात लिखी है उसको समझना भी ज़रूरी है।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव