नौकरी करनी है?

April 8, 2021 | आचार्य प्रशांत

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, आपका अभी-अभी एक वीडियो आया है "तरह-तरह के जानवर।" उसमें काफी लोग ये सवाल पूछ रहे हैं कि आप बोलते रहते हैं कि सही नौकरी करो, सही नौकरी करो। तो ये सही नौकरी होती क्या है? हमें तो अपना पेट भी पालना होता है। आपने तो बोल दिया सही नौकरी करो, तो हम लोग सही नौकरी कैसे करें और कैसे ढूँढे उसको?

आचार्य प्रशांत: ज़िन्दगी के बारे में जो बड़े-से-बड़े भ्रम हमें दे दिए गए हैं, हमारे दिमाग में रहते हैं, उनमें से एक ये है कि नौकरी पेट पालने के लिए होती है। और ये भ्रम भी इसलिए है क्योंकि हम समझते ही नहीं हैं कि हम कौन हैं और आदमी काम क्यों करता है।

देखिए, दुनिया में इतने जीव-जानवर होते हैं, वो सब कुछ-न-कुछ दिनभर करते ही रहते हैं न? उन सब में आदमी अकेला है जो 'काम' करता है, बाकी सब सिर्फ श्रम करते हैं। और वो जो कुछ भी कर रहे होते हैं, चाहे गधा, घोड़ा, खरगोश जो भी हो, वो अपना पेट पालने के लिए कर रहे होते हैं। तो ये हमारे शरीर की अनिवार्यता है कि पेट पालने के लिए कुछ-न-कुछ तो करना पड़ेगा। उतना जानवर भी करते हैं, ठीक है? उतना काम जानवर भी करते हैं कि पेट चलाना है तो इधर-उधर दौड़-भाग करेंगे, पत्ती, फल, ये सब इकठ्ठा करेंगे, या फिर शिकार करेंगे।

अब सवाल ये है कि आदमी भी अगर यही कर रहा है कि "बताओ कहाँ पैसे मिल जाएँगे जिससे पेट चलता रहे?" तो वो जानवर के ही तल का काम कर रहा है न? आदमी को ऊपर जाना होता है थोड़ा। आदमी के काम का, कर्म का उद्देश्य सिर्फ ये नहीं हो सकता कि आपको पेट चलाना है। पेट भी चलाना है, कौन मना कर रहा है कि पेट नहीं चलाओ? लेकिन सिर्फ पेट चलाने के लिए काम कर रहे हो, तो तुममें और खच्चर में अंतर क्या है? ये बात समझाई जा रही है।

आप क्या काम करते हो, ये आपकी ज़िन्दगी का बड़े-से-बड़ा फैसला होता है, बड़े-से-बड़ा। मैं हमेशा बोला करता हूँ कि दो चीज़ों की संगति आम आदमी लगातार करे रहता है: दफ़्तर में नौकरी की, और दफ़्तर से हटते ही घर में आकर अपने पति या पत्नी की।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव