लखुआ भूत ने मॉडर्न ओझा बनकर दही चटाई (हम चाटते गए) || (2021)

August 12, 2021 | आचार्य प्रशांत

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, आपके हज़ारों वीडियोस हैं यूट्यूब पर, हर वीडियो में आपने किसी-न-किसी तरीके से धर्म या अध्यात्म की ही बात करी है — उपनिषद्, ब्रह्म, धर्म, अध्यात्म, भगवान। ये सब मिलकर भी दुनिया में जो इतना पाप, दु:ख, युद्ध, क्लेश, अवसाद, बलात्कार, हत्या इत्यादि है उसका आजतक खात्मा क्यों नहीं कर पाए?

दुनिया में सबसे धार्मिक देश भारत रहा है फिर भी भारत में इतने पाप होते रहे, लड़ाइयों में इतनी हार मिली भारत को। धर्म तो धर्म तब है न जब समाज से, मन से संताप मिटाए। वो मसीहा कैसा जो जनमानस को मुक्त ना कर पाए? तो बताइए मुझे कि धर्म आजतक भी पाप-पीड़ा, संताप, शोषण, युद्ध क्यों नहीं मिटा पाया?

आचार्य प्रशांत: दो चीज़ें हैं — एक जो तुम्हें दी और दूसरी जो तुमने उसका बना लिया। जो धर्म तुम्हें दिया गया वो ऋषियों के श्लोकों जैसा साफ, पवित्र था और जो धर्म तुमने बना लिया वो ज़रा अलग था, काफी अलग था।

तुम पूछ रहे हो कि “जब लड़ाइयाँ हो रही थी, पाप हो रहा था और जब युद्ध है और बलात्कार है और अवसाद है तो धर्म उन्हें आज तक कभी खत्म क्यों नहीं कर पाया पिछले हज़ारों सालों में?” क्योंकि तुम्हारा धर्म — ‘धर्म’ नहीं ‘तुम्हारा धर्म’, जो तुमने बना लिया है धर्म को — क्योंकि ‘तुम्हारा धर्म’ कहीं और व्यस्त था। ‘तुम्हारा धर्म’ व्यस्त था ये तय करने में कि बाल कटाए जाने चाहिए या नहीं कटाए जाने चाहिए। ‘तुम्हारा धर्म’ ये तय करने में व्यस्त था कि पीले रंग के परिधान पहनें या सफेद रंग के।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव