गुरु से सीखें या जीवन के अनुभवों से? || आचार्य प्रशांत, आजगर गीता पर (2020)

September 21, 2020 | आचार्य प्रशांत

ज़िन्दगी इतने सारे तुमको संयोग देती है, उन्हीं संयोगों में से एक संयोग का क्या नाम है? गुरु, या ज्ञानी, या संत, या तत्वदर्शी। तुम बिल्कुल ही मूर्ख होगे अगर ज़िंदगी जो कूड़ा-कचरा तुम्हें देती है उसको तो तुम 'ज़िंदगी' बोलकर स्वीकार कर लो।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव