महिषासुर वध से हम क्या सीख सकते हैं? || श्रीदुर्गासप्तशती पर (2021)

January 9, 2022 | आचार्य प्रशांत

आचार्य प्रशांत: अब हम तृतीय अध्याय में प्रवेश करते हैं। जहाँ पर दूसरे अध्याय का समापन है, तृतीय अध्याय वहीं से आगे बढ़ता है। तो युद्ध चल रहा है विकराल, और एक के बाद एक दैत्य सेनापति आ करके देवी से संघर्ष कर रहे हैं।

चिक्षुर नाम का असुर आता है जो कई तरीके से संग्राम करता है और अंततः देवी के शूल से उसकी मृत्यु होती है। फिर उसके बाद चामर नाम का दैत्य आता है, वह संघर्ष करता है। देवी का सिंह उस चामर के हाथी के मस्तक पर चढ़ बैठता है और उसको मारता है और अंततः चामर का वध भी सिंह ही करता है।

"सिंह बड़े वेग से आकाश की ओर उछला और उसने गिरते समय पंजों की मार से चामर का सिर धड़ से अलग कर दिया।"

फिर कराल नाम का दैत्य आता है, और भी दैत्य आते हैं।

"क्रोध में भरी हुई देवी ने गदा की चोट से उद्धत का कचूमर निकाल डाला। भिन्दिपाल से बाष्कल को और बाणों से ताम्र और अंधक को मौत के घाट उतार दिया। तीन नेत्रों वाली परमेश्वरी ने त्रिशूल से उग्रास्य, उग्रवीर्य तथा महाहनु नामक दैत्यों को मार डाला। तलवार की चोट से बिडाल के मस्तक को धड़ से काट गिराया। दुर्धर और दुर्मुख, इन दोनों को भी अपने बाणों से यमलोक भेज दिया।"

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव