दारू और चिकन वाला बाज़ार (एक राज़ है वहाँ) || (2021)

July 23, 2021 | आचार्य प्रशांत

आचार्य प्रशांत: टीवी पर लिसियस और इस तरह की कंपनियाँ हैं वो अब सीधे-सीधे बच्चों का इस्तेमाल करके लोगों को माँस खाने की ओर ललचा रही हैं।

जो हिंदुस्तानियों के पसंदीदा फिल्मी कलाकार हैं वो इन कम्पनियों के विज्ञापन में काम कर रहे हैं और वो विज्ञापन हर घर में दिखाए जा रहे हैं, सिर्फ एक दिन नहीं, साल भर और सिर्फ एक समुदाय के घर में नहीं, हर समुदाय के घर में दिखाए जा रहे हैं।

इससे पता क्या चलता है? इससे पता ये चलता है कि पूरे समाज ने ही जैसे जानवरों की हत्या करने को स्वीकृति दे दी है, कि, "हाँ मारो जानवरों को, हमें अपने स्वाद से मतलब है हम तो मारेंगे!" आप बात समझ रहे हैं?

आने वाला समय ऐसा होने वाला है — ये पीढ़ी ऐसी है कि ये माँस को दाल-भात की तरह खा रही है। मैंने जिस कम्पनी की बात करी थी, लिसियस, उसका जो विज्ञापन आता है उसमें छोटे-छोटे बच्चे होते हैं दो, छोटे-छोटे मासूम बच्चों के मुँह खून लगाया जा रहा है कि लो तुम माँस चबाओ।

और वो जो माँस है वो कैसे पशुओं की क्रूर हत्या करके आ रहा है, ये नहीं दिखाया जा रहा। वो उसको इस तरीके से पैकेज कर दिया गया है और बता दिया गया है कि अब ये तो स्प्रेड है, ये तो एक स्वादिष्ट स्प्रेड है। इसको मक्खन पर और इसको रोटी पर और इसको ब्रेड में लगा लो और खाओ।

जब वो स्प्रेड के रूप में आ जाता है तो उसमें जो हत्या और क्रूरता और शोषण छुपा हुआ है वो दिखाई कहाँ देता है। और पाँच साल, सात साल के बच्चों को आप जब इस तरीके की आदतें डाल देंगे खाने की तो भविष्य क्या है भारत का, विश्व का, पशुओं का, पर्यावरण का, मानवता का और अध्यात्म का?

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव