हम पूर्ण से अलग हुए ही क्यों?

December 16, 2020 | आचार्य प्रशांत

प्रश्नकर्ता: मैं आज अमृतबिंदु उपनिषद पढ़ रहा था, जो आज भेजा गया था। उसमें लिखा है-

“विषय-भोगों के संकल्प से रहित होने पर ही इस मन का विलय होता है। अतः मुक्ति की इच्छा रखने वाला साधक अपने मन को सदा ही विषयों से दूर रखे। इसके अनन्तर जब मन से विषयों की आसक्ति निकल जाती है तथा वह हृदय में स्थिर होकर उन्मनी भाव को प्राप्त हो जाता है, तब वह उस परमपद को प्राप्त कर लेता है”।

“मन के दो प्रकार कहे गए हैं, शुद्ध मन और अशुद्ध मन। जिसमें इच्छाओं, कामनाओं के संकल्प उत्पन्न होते हैं, वह अशुद्ध मन है और जिसमें इन समस्त इच्छाओं का सर्वथा अभाव हो गया है, वही शुद्ध मन है”।

एक बार आपके विडियो में भी सुना था कि - हम जो अहम हैं, ये अपूर्ण वृत्ती है, अपूर्ण है तो ये हर किसी के साथ जुड़ जाना चाहती है। एक एचआईडीपी (HIDP) में भी था की वो इतनी छोटी सी है की वो छोटी-से-छोटी चीज़ से भी जुड़ जाती है, आपका यह वचन है। और यह निकली पूर्ण में से है, ये भी आपने ही बताया है पर आप यह भी बोल रहे हैं कि यह चेतना है, फिर यह अलग क्यूँ हुई है? यह सब सिस्टम (व्यवस्था) क्यों चल रहा है?

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव