एक मुर्गे से सीख लेते थे आचार्य प्रशांत? (2020)

October 12, 2020 | आचार्य प्रशांत

वैसे ही किसी भी पशु को देखो, बहुत कुछ पता चलेगा—पशु के बारे में कम, अपने बारे में ज़्यादा, क्योंकि वो जानवर हमारे भीतर भी मौजूद है। सब जानवर एक हैं, और सब जानवर हम में मौजूद हैं। सब जानवर हम में पूरे-पूरे मौजूद हैं। बस हम में कुछ ऐसा है जो जानवरों में नहीं है। हम में थोड़ी बेचैनी ज़्यादा है। जानवरों में इतनी बेचैनी नहीं होती है।

जानवरों को खाना-पीना वगैरह मिल जाए ठीक-ठाक, तो वो संतुष्ट रह जाते हैं; हम उतने में संतुष्ट रह नहीं पाते। हमें कुछ और चाहिए जीवन से। वरना अपनेआप को जानने का बहुत अच्छा तरीक़ा है—पेड़ को देख लो, पत्ते को देख लो, किसी भी जानवर को देख लो। यहाँ कि बंदरों को देख लो, बहुत कुछ जान जाओगे।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव