जब गाय-भैंस दूध देना बंद कर देती हैं, तब कहाँ जाती हैं? || (2021)

August 17, 2021 | आचार्य प्रशांत

रोबिन सिंह: बहुत से जो लोग हैं उनको होता है कि भाई अभी तो हम दूध ले रहे हैं इस चक्कर में गाय की कुछ क़दर तो है। अगर दूध को आप बहिष्कार करने को कह दो तो गाय की बिलकुल ही बेकद्री हो जाएगी।

आचार्य प्रशांत: बात तो ये है न कि वो जो गाय आई है वो आई कहाँ से है?

अगर आप दूध नहीं ले रहे होते तो गाय पैदा नहीं होती। खेल तो सारा कृत्रिम गर्भाधान का है न। तो लोग कहते हैं कि, "देखिए हमने दूध लेना भी बंद कर दिया तो सारी गायें सड़कों पर आ जाएँगी फिर तो उनका और बुरा हाल होगा", और ये सब। साहब आपने अगर दूध और पशु शोषण से जो और उत्पाद आते हैं वो छोड़ दिए तो ये गायें पैदा ही नहीं होंगी।

हम क्या सोच रहे हैं?

असल में दूध पीने वाले को पता ही नहीं है कि उनका दूध आता कहाँ से है। पहली बात तो ये है‌। ना तो उनका गावों से कोई ताल्लुक है और ना तो उनका डेयरी फॉर्म से कोई ताल्लुक है और ना वो ये जानते हैं कि बड़े-बड़े उद्योग किस तरह से काम करते हैं। तो उनके दिमाग में पता नहीं कौन-सी बहुत बचकानी सी छवि है कि गाय होती है और गाय दूध देती है। बस इतना उनको पता है — एक गाय होती है वो दूध देती है।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव