क्यों रचा गया वेदांत?

February 16, 2021 | आचार्य प्रशांत

प्रश्नकर्ता: वेदान्त क्यों रचा गया?

आचार्य प्रशांत: ऋषियों का एक-एक शब्द सुनने वाले बेचैन मन की शान्ति हेतु ही है। यही एकमात्र उद्देश्य है उपनिषदों का। एक-एक बात जो कही जा रही है वह किसी अवस्था विशेष से कही जा रही है; सत्य, अनावलंबित सत्य, निरुद्देश्य सत्य, निष्प्रयोजन सत्य, कहा ही नहीं जा सकता। जो कुछ कहा जाता है वह सदा किसी सीमित इकाई के लाभ हेतु कहा जाता है। असीम सत्य को शब्दों में वर्णित करने का कोई उपाय नहीं है। उपनिषदों में भी जो कहा गया है वह मन के लाभार्थ कहा गया है। वैसे ही उसको देखना होगा। सत्यता मत ढूंढिएगा, उपयोगिता देखिएगा।

‘सत्य या ब्रह्म से श्रेष्ठ दूसरा कोई नहीं’, यह वाक्य बहुत औचित्यपूर्ण नहीं होगा क्योंकि सत्य या ब्रह्म के अतिरिक्त दूसरा कोई है ही नहीं, जब दूसरा कोई है ही नहीं तो दूसरा कोई श्रेष्ठ या हीन कैसे हो सकता है? तो यह बात इसीलिए किसी पूर्ण या मुक्त संदर्भ में नहीं कही गई है, यह बात मन के सीमित संदर्भ में कही गई है। मन ही है जिसको बहुत सारे दिखाई देते हैं, जिसके लिए वैविध्यपूर्ण संसार है, जिसके सामने हज़ारों-करोड़ों भिन्न-भिन्न इकाइयाँ हैं, और उन इकाइयों में वह किसी को श्रेष्ठ समझता है और किसी को हीन। तुम्हारे लिए ब्रह्म से श्रेष्ठ कोई दूसरा नहीं। ब्रह्म से श्रेष्ठ कोई दूसरा कैसे हो जाएगा? सबकुछ तो ब्रह्म के भीतर है। जो पूर्ण है उससे श्रेष्ठ अंश कैसे हो जाएगा? पूर्ण की तुलना आप किस से करेंगें? जिस तुला पर आप पूर्ण को नापेंगे-जोखेंगे, उसका मूल्य या वज़न करेंगे, वह तुला भी पूर्ण के अंदर ही है। पूर्ण का अर्थ ही है जिसमें सब कुछ समाहित हो, तो तुलना का कोई उपाय नहीं।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव