क्या सिखाना चाहती है कोरोना महामारी? || आचार्य प्रशांत, कोरोनावायरस पर (2020)

October 12, 2020 | आचार्य प्रशांत

आज भी ज़्यादातर लोग यही सोच रहे हैं कि ये जो महामारी है, ये बस एक दुर्घटना है, संयोगवश हो गई, एक ऐक्सिडेंट भर है। नहीं। देखिए, दुर्घटना नहीं है, ये कर्मफल है। इस बात को समझिए।

छोटी दुर्घटना है, तब ही चेत जाइए, नहीं तो और बड़े-बड़े आघात लगेंगे।

Share this article:


ap

आचार्य प्रशांत एक लेखक, वेदांत मर्मज्ञ, एवं प्रशांतअद्वैत फाउंडेशन के संस्थापक हैं। बेलगाम उपभोगतावाद, बढ़ती व्यापारिकता और आध्यात्मिकता के निरन्तर पतन के बीच, आचार्य प्रशांत 10,000 से अधिक वीडिओज़ के ज़रिए एक नायाब आध्यात्मिक क्रांति कर रहे हैं।

आई.आई.टी. दिल्ली एवं आई.आई.एम अहमदाबाद के अलमनस आचार्य प्रशांत, एक पूर्व सिविल सेवा अधिकारी भी रह चुके हैं। अधिक जानें

सुझाव