यूट्यूब और टिकटॉक पर गालीगलौज वायरल क्यों? || आचार्य प्रशांत (2020)

कई तल होते हैं बात करने के ना? दूसरे से संवाद करने के, संपर्क करने के, वार्ता करने के कई तरीक़े होते हैं। और ये तरीक़े दो चीज़ों पर निर्भर करते हैं - तुम कैसे हो, और वो दूसरा व्यक्ति कैसा है।

ऊँचे-से-ऊँचे तरीक़ा तो मौन भी बताया गया है कि - कुछ बोलो नहीं, तो भी बातचीत हो जाती है। फिर एक तरीक़ा होता है स्पर्श का, कि कई बार बस किसी को ज़रा-सा ऐसे इशारा कर दो, या छू दो इतना-सा, इतने से उसको पता चल जाता है कि कहना क्या चाहते हो। फिर एक तरीक़ा होता है भाषा का, और फिर एक तरीक़ा होता है ध्वनि का।

तो तुम किस तरीक़े से अपनी बात दूसरे तक संप्रेषित करते हो, वो इस पर निर्भर करता है कि तुम कौन हो, और दूसरे को क्या समझ रहे हो।