स्त्री को नीचा क्यों माना धर्मों और बुद्धों ने?

मां हि पार्थ व्यपाश्रित्य येऽपि स्युः पापयोनयः।

स्त्रियो वैश्यास्तथा शूद्रास्तेऽपि यान्ति परां गतिम्॥

हे अर्जुन! स्त्री, वैश्य, शूद्र तथा पापयोनि चाण्डलादि जो कोई भी हों, वे भी मेरे शरण होकर परमगति को हीं प्राप्त होते हैं।

(श्रीमद्भगवद गीता, अध्याय ९, श्लोक ३२)

प्रश्नकर्ता: मेरे दो प्रश्न हैं, पहला यह कि हर ऋषि कहीं न कहीं स्त्री को इसी निम्नकोटि में डाल कर बात करते हैं और दूसरा यदि वाकई स्त्री होने के नाते कोई बात ध्यान रखने लायक है तो वह बताइए।

आचार्य प्रशांत: देखो जहाँ से कृष्ण बात कर रहे हैं, वहाँ से देखने पर तो जीव ही मिथ्या है तो काहे की स्त्री और कौन-सा पुरुष। जहाँ से कृष्ण देख रहे हैं, वहाँ से देखने पर तो जीव ही नहीं है तो स्त्री कौन? और पुरुष कौन? जिंदा कौन? और मुर्दा कौन? अर्जुन को कह रहे हैं "ये जो जिंदा हैं, ये कभी मुर्दा थे और जो मुर्दा हैं वो अभी भी जिंदा हैं।" अर्जुन बिल्कुल घबड़ियाया हुआ है।(सभी श्रोता हँसते हुए) कि कुछ है कि नहीं है? कृष्ण बोल रहे हैं "मरे हुए जो हैं, वो कभी मरे नहीं; जो जिंदा है, वो पैदा हुए नहीं।" तो वो तो जीव की ही सत्ता को मिथ्या बताए दे रहे हैं। अब उसमें क्या परेशान होना है कि कौन स्त्री है?कौन पुरुष है? लेकिन सुनने वाला कौन है? अर्जुन है। अब इन साहब पर ध्यान देते हैं। ये वो हैं जो पहले अध्याय में बता रहे थे कि "देखिए! अगर हमने लड़ाई करी तो सब क्षत्रिय पुरुष मर जाएंगे और फिर हमारी औरतें खराब हो जाएँगी, वो इधर-उधर जाकर के संबंध बनाएँगी, उससे वर्णसंकर पैदा होंगे।" वो सब याद है?

तो सुनने वाला किस मानसिकता का है? सुनने वाला तो जाति, लिंग इन सब संस्कारों से घिरा हुआ है न? और वह देखो समय ऐसा था जब अर्थव्यवस्था पूरे तरीके से बाहुबल पर चलती थी। आदमी द्वारा किए जा रहे श्रम पर चलती थी। मशीनें आविष्कृत हुई नहीं थी और जो थी भी वो अपने बहुत आरंभिक स्तर पर थी। किस तरह की मशीन थी? अब धनुष भी एक मशीन ही है और पर उस मशीन में ऊर्जा कहाँ से आ रही है? आदमी के बाज़ू से आ रही है। तो उस समय जो मशीनें भी थीं वह न तो हाइड्रोकार्बन से चल रही थीं, न सोलर पावर से चल रही थीं, न टाइडल वेव से चल रही थीं, सब मशीनें जो छोटी-मोटी थीं भी, वो काहे से चल रही थीं? वो या तो पशुओं के बाजुओं से चल रही थीं कि तुमने बैल लगा दिए हैं तो वो खेत जोत रहे हैं या फिर मनुष्य के बाज़ुओं से चल रही थीं। अब प्रकृति ने कुछ कर दिया है, भई! बाज़ू तो पुरुषों के ही ज़्यादा मजबूत होते हैं न? तो उस समय की अर्थव्यवस्था फिर ज़ाहिर-सी बात है किनके हाथों में थी? पुरुषों के। अब आज अगर लड़ाई हो, तो दागी जाएगी मिसाइल। अब मिसाइल बनाने में बाज़ू तो लगे नहीं हैं, मिसाइल बनाने में क्या लगा है? बुद्धि। और मिसाइल दागने के लिए भी बाज़ू नहीं चाहिए मिसाइल दागने के लिए भी क्या करना है? बटन दबाना है। तो मिसाइल बनाने का काम भी स्त्रियाँ कर सकती हैं आज और मिसाइल लॉन्च करने का भी काम स्त्रियाँ कर सकती हैं आज। कर सकती हैं न?

अभी पिक्चर देख कर आई होगी 'मिशन मंगल' उसमें देखा होगा कि पूरी जो टीम हीं थी उसमें ज़्यादातर महिलाएँ हीं थी। तो आज के समय में तीर क्या रॉकेट भी लॉन्च करना हो तो महिलाएँ पूरी तरह सक्षम हैं। पर उस समय होता था गदा युद्ध। अब तुम भीम के सामने आनंदिता(प्रश्नकर्ता) को खड़ा कर दो गदा देख कर के तो क्या होगा? क्या होगा बोलो? कुछ नहीं होगा(सभी श्रोता हँसते हुए) भीम हँस-हँस के लौटने लग जाएँगें। तो उस समय जो पावर, जो एनर्जी का स्रोत था, वो ये था- बाहुबल और बाहुबल किसके पास ज़्यादा था? पुरुषों के पास ज़्यादा था। तो सारी सत्ता पुरुषों ने हथिया रखी थी। उन्हीं सत्ताधारियों में एक कौन है? अर्जुन भी। तो अर्जुन की निगाह में भी स्त्रियाँ कैसी हैं? ये उस समय की बात है, अर्जुन को दोष नहीं दिया जा रहा। उस समय पर जितने लोग थे उन सब की दृष्टि में स्त्रियाँ थोड़े नीचे के ही तल की हुई न? क्योंकि उर्जा तो है ही नहीं उनके पास और पूरी अर्थव्यवस्था ही किससे चल रही है? पूरी दुनिया ही किससे चल रही है?

ऊर्जा से।

Read Full Article