छोटी बातों में उलझे रहोगे तो बड़ा काम कब करोगे? || आचार्य प्रशांत (2019)

केंद्रीय समस्या पर हम कभी आक्रमण ही नहीं कर पाते; केंद्रीय समस्या छुपी रह जाती है, हमारे सामने झूठी और छोटी-छोटी समस्याएँ खड़ी करके। केंद्रीय समस्याओं को अगर बचे रहना है तो उसके बचने का सबसे अच्छा तरीक़ा ये है कि आदमी को दूसरी और छोटी समस्याओं में उलझा दो, पूरी ज़िंदगी ख़राब कर देगा छोटी चीज़ में।

तुम ऊपर से आओ—इसी ऊपर उठने को, ऊर्ध्वगमन को 'अध्यात्म' कहते हैं।

ऊपर से आओ!

Read Full Article